ट्रंप-किम के साथ त्रिपक्षीय बातचीत चाहते मून जेई-इन

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के राष्ट्रपति किम जोंग उन के बीच दूसरी शिखरवार्ता विफल होने के बाद दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ने दोनों देशों के बीच त्रिपक्षीय बातचीत की वकालत की है.

परमाणु कूटनीति को वापस पटरी पर लाने के लिए संघर्ष कर रहे दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई-इन के नेतृत्व में सोमवार को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक हुई. इस बैठक के दौरान मून ने एक प्रस्ताव पेश किया जिसमें उन्होंने कहा कि सियोल की सर्वोच्च प्राथमिकता, अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच परमाणु वार्ता को पटरी से उतरने से रोकने की है. उनका कहना है कि अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच परमाणु वार्ता को जल्द पटरी पर लाने के लिए दक्षिण कोरिया सक्रिय रूप से प्रयास करेगा.

उत्तर कोरिया के मिसाइल और परमाणु परीक्षणों को लेकर तनाव उत्पन्न होने के बाद वाशिंगटन और प्योंगयांग के बीच परमाणु कूटनीति को लेकर वार्ता बहाल करने के लिए मून काफी प्रयास कर रहे हैं.

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते ट्रंप और किम के बीच इस मुद्दे पर दूसरी बार शिखर वार्ता हुई थी. इसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ बैठक में उत्तर कोरिया ने परमाणु हथियारों को लेकर एक बड़ा फैसला लिया. इसमें उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन परमाणु हथियार खत्म करने पर सहमत हो गए. दरअसल,अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और नॉर्थ कोरिया के राष्ट्रपति किम जोंग वियतनाम की राजधानी हनोई में बैठक में थे जिसमें दोनों देशों के नेताओं के बीच हाथ मिलाने के साथ दूसरी शिखर वार्ता की शुरूआत हुई.

विश्लेषकों का मानना है कि हनोई में उनकी दूसरी बैठक में ठोस कदम उठाए जाने की आवश्यकता है, लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि ट्रंप किसी भी बड़ी सफलता की उम्मीद नहीं जगाना चाहते हैं. इसीलिए गुरुवार को मेट्रोपोल होटल में ट्रंप ने किम के साथ बैठक करने से पहले संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, हम देखेंगे कि क्या होगा. कोई जल्दबाजी नहीं है. हम उचित समझौता करना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि परिणाम लंबे समय में मिलेंगे.

बता दें कि दोनों देशों के बीच लंबे समय से चले आ रहे तनाव के बाद यह पहला ऐसा मौका था जब किसी अमेरिकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरियाई नेता के बीच मुलाकात हुई थी. उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु हथियारों के परीक्षण और परीक्षण स्थलों को नष्ट करने के बाद पूरी दुनिया की निगाहें इस शिखर वार्ता पर टिकी हुई थीं.

इससे पहले वियतनाम की राजधानी हनोई में होने वाली अपनी दूसरी शिखर वार्ता से पहले ट्रंप ने रविवार को कहा था कि उत्तर कोरिया अगर परमाणु हथियारों को त्याग देता है तो वह दुनिया की बड़ी आर्थिक महाशक्तियों में से एक बन सकता है. उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आठ महीने पहले अपनी पिछली बैठक में हुई वार्ता को आगे बढ़ाने के मकसद से गुरुवार को हनोई में वार्ता के लिए लगातार दूसरे दिन बैठक की थी.

admin