नहीं पूरी हुई काशी के विद्वानों की मांग, पीएम मोदी ने हिंदी में ली शपथ

नरेंद्र मोदी ने लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. गुरूवार को राष्ट्रपति भवन में हुए शपथ ग्रहण समारोह में मोदी ने राजभाषा हिंदी में शपथ ली. काशी से आई देव भाषा संस्कृत में शपथ लेने की मांग पूरी नहींं हुई नरेंद्र मोदी ने लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. गुरूवार को राष्ट्रपति भवन में हुए शपथ ग्रहण समारोह में मोदी ने राजभाषा हिंदी में शपथ ली. काशी से आई देव भाषा संस्कृत में शपथ लेने की मांग पूरी नहींं हुई.

गौरतलब है कि श्रीकाशी विद्वतपरिषद ने मोदी को पत्र भेजकर आग्रह किया था कि काशी के प्रतिनिधि होने के नाते वह देव भाषा संस्कृत में शपथ लें. काशी विद्वत परिषद की मंगलवार को हुई बैठक के बाद परिषद के मंत्री डॉक्टर रामनारायण द्विवेदी ने उम्मीद जताई थी कि पीएम मोदी काशी के साहित्यकार, समाजसेवी और प्रबुद्ध जनों की इच्छा का सम्मान करते हुए देव भाषा में शपथ ग्रहण करेंगे. उन्होंने इस आशय का पत्र शपथ पत्र के साथ वाराणसी के पीएमओ प्रभारी शिवशरण पाठक को मेल कर प्रधानमंत्री को काशी की जनभावनाओं का सम्मान करने की मांग किए जाने की जानकारी दी थी

admin