एनालिसिस / दूसरे देश में पैदा हुए खिलाड़ियों ने इंग्लैंड को पहली बार वर्ल्ड चैम्पियन बनाया

खेल डेस्क. वर्ल्ड चैम्पियन बनी इंग्लैंड की टीम में 15 में 7 खिलाड़ियों का जन्म दूसरे देशों में हुआ। इनमें फाइनल में मैन ऑफ द मैच बने बेन स्टोक्स और टीम के लिए टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले जोफ्रा आर्चर भी शामिल हैं। टीम के कप्तान इयॉन मॉर्गन खुद आयरलैंड के हैं। वे आयरलैंड की टीम से 2007 में वर्ल्ड कप भी खेल चुके हैं। वहीं, ओपनर जेसन रॉय दक्षिण अफ्रीकी हैं। इंग्लैंड की टीम पहली बार वर्ल्ड कप जीती।

विदेशी मूल के खिलाड़ियों का टीमों में खेल पाना आईसीसी के नियमों के तहत संभव है। आईसीसी के नियम 2.1.3 के मुताबिक, अगर कोई खिलाड़ी दूसरे देश की टीम से खेलना चाहता है तो उसे संबंधित देश में कम से कम 3 साल रहना होगा।

इंग्लैंड की टीम में विदेशी मूल के खिलाड़ी और उनका वर्ल्ड कप में प्रदर्शन

इयॉन मॉर्गन (डबलिन, आयरलैंड)
इयॉन ने आयरलैंड की तरफ से खेलते हुए 5 अगस्त 2006 को स्कॉटलैंड के खिलाफ मैच से वनडे में डेब्यू किया था। आयरलैंड से डेब्यू के तीन साल बाद यानी 2009 के टी20 क्रिकेट वर्ल्ड कप में उन्हें इंग्लैंड टीम में जगह मिली और तब से ही मॉर्गन इंग्लैंड के लिए खेल रहे हैं।

admin