वर्ल्ड कप / इंग्लैंड के बराबर न्यूजीलैंड बाउंड्री लगाता तो सुपर ओवर की हर गेंद पर बने रन से नतीजा तय होता

नई दिल्ली. लॉर्ड्स के मैदान पर रविवार को इंग्लैंड-न्यूजीलैंड के बीच खेले गए फाइनल में मैच और सुपर ओवर टाई होने के बाद बाउंड्री के हिसाब से विजेता तय हुआ। मैच और सुपर ओवर को मिलाकर इंग्लैंड ने कुल 26 और न्यूजीलैंड ने 17 बाउंड्री लगाईं। न्यूजीलैंड से ज्यादा बाउंड्री लगाने की वजह से इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया। अगर दोनों टीमें मैच और सुपर ओवर में बराबर बाउंड्री लगातीं, तो सुपर ओवर की हर गेंद पर बने रन के हिसाब से मैच का नतीजा निकलता।

फाइनल मैच में सुपर ओवर को लेकर क्या हैं नियम?

अगर सेमीफाइनल या फाइनल टाई होता है तो मैच का नतीजा सुपर ओवर से निकलता है। दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने वाली टीम सुपर ओवर में पहले बल्लेबाजी करती है। जैसे- इंग्लैंड ने दूसरी पारी में बल्लेबाजी की, इसलिए सुपर ओवर में उसे पहले बल्लेबाजी का मौका मिला। सुपर ओवर में हर टीम को 6 गेंद और 2 विकेट मिलते हैं। अगर दो विकेट गिर जाते हैं तो ओवर वहीं खत्म हो जाता है।

अगर सुपर ओवर भी टाई हो जाता है तो फिर दोनों टीमों की बाउंड्री संख्या गिनी जाती है। यानी, दोनों टीमों ने अपनी पारी और सुपर ओवर में कितनी बाउंड्री लगाईं। जैसे- इंग्लैंड ने अपनी पारी में 22 चौके और 2 छक्के समेत 24 बाउंड्री लगाईं। इसके बाद उसने सुपर ओवर में भी 2 बाउंड्री लगाईं। इस तरह से उसकी 26 बाउंड्री हो गईं। वहीं, न्यूजीलैंड ने अपनी पारी में 14 चौके, 2 छक्के समेत 16 बाउंड्री लगाईं और सुपर ओवर में 1 छक्का लगाया। इस तरह न्यूजीलैंड ने कुल 17 बाउंड्री लगाईं। इसलिए ज्यादा बाउंड्री लगाने के कारण इंग्लैंड जीता।

अगर दोनों टीमों की बाउंड्री संख्या बराबर होती तो क्या होता?

सुपर ओवर टाई होने के बाद अगर दोनों टीमों की बाउंड्री की संख्या भी बराबर होती तो दो तरह की स्थिति बनती और इससे नतीजा निकाला जाता।

1) जो टीम 50 ओवर की पारी में सबसे ज्यादा बाउंड्री लगाती, वह विजेता होती। इसमें सुपर ओवर में लगाई गई बाउंड्री को नहीं जोड़ा जाता।

उदाहरण के लिए : अगर इंग्लैंड और न्यूजीलैंड ने सुपर ओवर मिलाकर अपनी पारियों में 24-24 बाउंड्री लगाईं होती। तो फिर, दोनों टीमों की मुख्य पारियों में लगाई गईं बाउंड्री की संख्या को गिना जाता। अगर इंग्लैंड ने अपनी मुख्य पारी में 22 बाउंड्री लगाई होतीं और न्यूजीलैंड ने 23 बाउंड्री लगाई होतीं तो विजेता न्यूजीलैंड की टीम होती।

2) अगर मुख्य पारियों में भी दोनों टीमें बराबर बाउंड्री लगातीं, तो मैच का नतीजा सुपर ओवर की आखिरी गेंद से पहली गेंद पर दोनों टीम की तरफ से बने रनों के आधार पर तय किया जाता।

उदाहरण के लिए : सुपर ओवर की आखिरी गेंद (6वीं गेंद) पर इंग्लैंड की टीम 4 रन बनाती, लेकिन न्यूजीलैंड की टीम 3 रन ही बना पाती तो ऐसे में आखिरी गेंद पर ज्यादा रन बनाने की वजह से इंग्लैंड की टीम जीतती। पर आखिरी गेंद पर भी दोनों टीमें बराबर रन बनाती तो 5वीं गेंद के रन देखे जाते।

admin