कश्मीर / पाकिस्तान ने राजनयिक संबंधों में कटौती कर भारतीय उच्चायुक्त को वापस भेजा, द्विपक्षीय कारोबार भी रोका

इस्लामाबाद. पाकिस्तान ने बुधवार को भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार खत्म करने का फैसला लिया। पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में यह फैसला लिया। पाक सरकार ने यह भी निर्णय लिया कि भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को वापस भेजा जाएगा। इमरान सरकार ने कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद यह कदम उठाया है। इस बीच ट्रम्प सरकार ने कहा है कि भारत ने उसे कश्मीर पर लिए गए फैसले पर कोई जानकारी नहीं दी।

बैठक के बाद पाकिस्तान सरकार ने बयान जारी किया। इसमें कहा गया- भारत का हालिया कदम कश्मीर में हिंसा और उपद्रव को बढ़ाएगा। यह कदम दो सामरिक रूप से सक्षम देशों के बीच अस्थिरता का कारण बनेगा। कश्मीर में भारत सरकार ने बड़ी तादाद मेें सेना को नियुक्त किया है और इसका इस्तेमाल वहां की निहत्थी जनता के खिलाफ किया जाएगा, जो कि आग में घी का काम करेगा।

एनएससी की बैठक में 5 अहम फैसले लिए गए

राष्ट्रीय सुरक्षा समिति (एनएससी) ने कहा- पाकिस्तान भारत के इस कदम की निंदा करता है। इस फैसले से क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय शांति पर उल्टा प्रभाव पड़ेगा। इस बैठक में 5 अहम फैसले लिए गए।
1- राजनयिक संबंधों को कम करना।
2- द्विपक्षीय व्यापारिक संबंध खत्म करना।
3- द्विपक्षीय व्यवस्थाओं की समीक्षा करना।
4- कश्मीर पर फैसले का मामला संयुक्त राष्ट्र ले जाना।
5- 14 अगस्त का दिन कश्मीरियों के साथ मजबूती के साथ खड़े रहने के तौर पर याद किया जाएगा। 15 अगस्त को काला दिवस मनाया जाएगा।

जुलाई 2018 से जनवरी 2019 के बीच कारोबार हुआ

पुलवामा हमले से पहले जुलाई 2018 से जनवरी 2019 के बीच दोनों देशों के बीच 6,230 करोड़ रुपए का कारोबार हुआ था। जनवरी-जून 2018 की तुलना में इसमें 5% का इजाफा हुआ था। वहीं, 2018-19 में दोनों देशों के बीच करीब 18 हजार करोड़ रुपए का कारोबार हुआ। यह 2017-18 की तुलना में 1600 करोड़ रुपए ज्यादा था। इसमें भारत का पाकिस्तान को निर्यात 80% है और आयात सिर्फ 20% है।

jmradmin