अनुच्छेद 370 / भारत ने समझौता एक्सप्रेस रद्द की, पाकिस्तान की तरफ से सेवा रोकने के 3 दिन बाद फैसला

नई दिल्ली. भारतीय रेलवे ने रविवार को दिल्ली से अटारी तक चलने वाली समझौता एक्सप्रेस रद्द करने का ऐलान कर दिया। इससे पहले पाक ने भी 8 अगस्त को लाहौर से अटारी के बीच ट्रेन संचालन को रद्द कर दिया था। पाक से आखिरी ट्रेन 9 अगस्त को दिल्ली पहुंची थी। दिल्ली स्टेशन पर 117 यात्री उतरे, जिनमें 41 पाकिस्तानी थे। भारत से आखिरी ट्रेन अटारी स्टेशन से शुक्रवार रात डेढ़ बजे रवाना हुई थी। समझौता एक्सप्रेस सप्ताह में दो दिन चलती थी। यह दिल्ली से अटारी और फिर वाघा से लाहौर तक का सफर तय करती थी।

उत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी दीपक कुमार ने कहा, “पाकिस्तान के लाहौर और अटारी के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस को रद्द करने के फैसले के बाद भारत ने भी दिल्ली और अटारी के बीच चलने वाली एक्सप्रेस ट्रेन को रद्द कर दिया है।” वहीं, 8 अगस्त को पाक के रेल मंत्री शेख राशिद अहमद ने कहा था कि रेल मंत्रालय ने समझौता एक्सप्रेस को स्थाई रूप से बंद करने का फैसला किया है। यह फैसला जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के कई प्रावधानों को खत्म करने के विरोध में किया।

ऐसे होती है आवाजाही
आम तौर पर पाकिस्तान के वाघा रेलवे स्टेशन से समझौता एक्सप्रेस भारत के अटारी रेलवे स्टेशन पर दोपहर 12 बजे आती है। इसके साथ आने वाले मुसाफिरों को स्टेशन पर उतार दिया जाता है। इसके बाद दिल्ली से आने वाली दिल्ली-अटारी स्पेशल ट्रेन (जो सुबह 7.00 बजे आ चुकी होती है) के मुसाफिरों को समझौता के जरिए पाकिस्तान भेजा जाता है। समझौता से आए यात्रियों को दिल्ली-अटारी स्पेशल के जरिए दिल्ली रवाना किया जाता है।

22 जुलाई 1976 को शुरू हुई थी समझौता एक्सप्रेस
1971 के युद्ध के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच 1972 में शिमला समझौता हुआ था। इसके तहत दोनों देशों के बीच ट्रेन चलाने पर सहमति बनी थी। इसके तहत यह समझौता एक्सप्रेस 22 जुलाई 1976 को शुरू हुई थी। इस ट्रेन में 6 स्लीपर और 1 एसी 3-टियर कोच है। भारत की ओर से यह दिल्ली और पाकिस्तान की ओर से लाहौर से इस एक्सप्रेस का संचालन होता है।

jmradmin