चिदंबरम के जवाब से संतुष्ट नहीं CBI, लाई डिटेक्टर टेस्ट के लिए दे सकती है अर्जी

पूछताछ में सीबीआई पी. चिदंबरम के द्वारा दिए जा रहे जवाबों से संतुष्ट नहीं है, ऐसे में अब एजेंसी की तरफ से पूर्व वित्त मंत्री के लाई डिटेक्टर टेस्ट की अपील की जा सकती है.
आईएनएक्स मीडिया केस में पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता पी. चिदंबरम पर एजेंसियों का शिकंजा कसता जा रहा है. 30 अगस्त तक पी. चिदंबरम केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की हिरासत में हैं, तो वहीं दूसरी ओर ईडी भी उनकी हिरासत मांग रही है. पूछताछ में सीबीआई पी. चिदंबरम के द्वारा दिए जा रहे जवाबों से संतुष्ट नहीं है, ऐसे में अब एजेंसी की तरफ से पूर्व वित्त मंत्री के लाई डिटेक्टर टेस्ट (LDT) की अपील की जा सकती है.

सूत्रों की मानें तो CBI हिरासत के दौरान पूर्व वित्त मंत्री से की गई पूछताछ में जवाबों से संतुष्ट नहीं है. सीबीआई की दलील है कि पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने ईमेल कम्युनिकेशन और रकम के आदान-प्रदान को लेकर सभी सवालों के असंतुष्ट जवाब दिए. एजेंसी के मुताबिक, पूछताछ में अक्सर चिदंबरम ने सिर्फ ‘…मुझे याद नहीं’, ‘…मालूम नहीं’ जैसे जवाब दिए.

अब सीबीआई को ये जवाब कुछ रास नहीं आए, यही कारण है कि एजेंसी अदालत से लाई डिटेक्टर टेस्ट (LDT) की गुहार लगा सकती है.

इसके अलावा पूछताछ के दौरान CBI चिदंबरम का इंद्राणी मुखर्जी से आमना-सामना भी कराना चाहती है. क्योंकि मुंबई की जेल में बंद इंद्राणी मुखर्जी ने पी. चिदंबरम के साथ अपनी बातचीत को लेकर जो खुलासे किए हैं उसको लेकर भी पूर्व वित्त मंत्री गोलमोल जवाब दे रहे हैं.

दूसरी ओर पी. चिदंबरम की ओर से सुप्रीम कोर्ट में बताया गया है कि उन्होंने पूछताछ में जवाब तो दिए हैं, लेकिन सीबीआई उनके मुंह से वही कहलवाना चाहती है जो उसे सुनना पसंद है. इससे पहले CBI ने इसी मामले में कार्ति चिदंबरम का इंद्राणी मुखर्जी से आमना-सामना कराया था. अभी तक की पूछताछ में एजेंसी ने पूर्व वित्त मंत्री से ईमेल आदि से जुड़े सवाल पूछे हैं.

गौरतलब है कि सीबीआई ने पी. चिदंबरम को उनके घर से गिरफ्तार किया था, जिसके बाद उन्हें 26 अगस्त तक हिरासत में भेज दिया गया था. सोमवार को फिर राउज़ एवेन्यू कोर्ट ने पी. चिदंबरम की हिरासत को 30 अगस्त तक बढ़ा दिया है.

admin